Home ट्रेंडिंग लंदन में कोरोना की वैक्सीन पर काम चल रहा : लेकिन कितनी होगी एक वैक्सीन की कीमत ?

लंदन में कोरोना की वैक्सीन पर काम चल रहा : लेकिन कितनी होगी एक वैक्सीन की कीमत ?

13 second read
0
0
127

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के पीछे इस समय पूरी दुनिया पागल है ! हर वैज्ञानिक, हर वायरस साइंटिस्ट, लैब में काम करने वाला हर डॉक्टर इस वक्त सिर्फ और सिर्फ इसी कोशिश में लगा है कि किसी तरह वो कोरोना वैक्सीन का फॉर्मूला ढूंढ ले।

खबर ये भी है कि ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साइंटिस्ट इसकी वैक्सीन बनाने के बेहद करीब पहुंच चुके हैं। खुशखबरी ये भी है कि इस वैक्सीन का परीक्षण भी एक साथ सैंकड़ों इंसानों पर होने वाला है। अगर वैक्सीन का परीक्षण कामयाब होता है तो भी इस वैक्सीन की पूरी डोज बनने में सितंबर तक का वक्त लगेगा और भारत तक इसके आने में दिसंबर तक का भी टाइम लग सकता है।

image source ..Medical Daily

लेकिन कितने रूपए की आएगी एक वैक्सीन ?
क्या ये वैक्सीन काफी बेशकीमती होगी या फिर देश के नागरिकों के लिए फ्री होगी ?
क्या जो भी मेडिकल कंपनी इस वैक्सीन को बनाएगी वो इसे बेचकर खूब मुनाफा कमाने के चक्कर में नहीं पड़ेगी ?

जाहिर तौर पर वैक्सीन का फॉर्मूला और वैक्सीन का प्रोडक्शन काफी कीमती होने वाला है। हालांकि WHO यानि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन इस बात की पूरी कोशिश करेगा कि अगर वैक्सीन बन जाती है तो कीमत से परे हर देश तक ये समान भाव से पहुंचे। वैसे भी ये बात तो तय है कि अगर कोरोना की वैक्सीन दुनिया के सामने आ जाती है तो देश के नागरिकों के लिए ये फ्री ही रखी जाएगी। जी हां, वैक्सीन जब भी आएगी तो इसे आम जनता के लिए रखा जाएगा एकदम FREE !
और ऐसा क्यों होगा, ये भी समझिए।

image source..Medical Daily

देखिए अलग अलग देश की सरकारों को वैक्सीन खरीदने के लिए तो भारी भरकम रकम दवा कंपनियों को चुकानी ही पड़ेगी। और देश इसे खरीदने के लिए अपने मुद्राकोष का एक भारी भरकम हिस्सा खर्च भी करेंगे लेकिन सरकारों की मजबूरी ये होगी कि उसे ये वैक्सीन अपनी जनता को मुफ्त में ही बांटनी होगी।क्योंकि कोरोना एक PANDEMIC की तरह फैला है और ऐसे में अपने नागरिकों को सुरक्षित स्वास्थ्य मुफ्त में मुहैय्या कराना सरकारों का ही दायित्व होता है।

लिहाजा भले ही सरकारों को वैक्सीन खरीदने में कितना भी खर्चा करना पड़े लेकिन ये वैक्सीन आम लोगों को मुफ्त में ही वितरित करनी पड़ेगी।हां, कोरोना वैक्सीन के भारत आने से जुड़ी सबसे खतरनाक बात ये है कि अगर ये वैक्सीन आज की तारीख में भी बन जाती है तो भी भारत के लिए इसका प्रोडक्शन होते होते दिसंबर का महीना आ जाएगा।
CRAZYFEED की रिपोर्ट

Load More Related Articles
Load More By Lavanya Joshi
Load More In ट्रेंडिंग

Check Also

देश में मरते गरीब और पुलवामा ब्लास्ट : देशभक्त सरकार के सामने परेशानियां !

वैसे इस देश केदेशद्रोहियों का वाकईकुछ हो नहीं सकता। वो तो भला हो इस देश की देशभक्त सरकार क…