Home ट्रेंडिंग Web Series के नाम पर एक काला धब्बा है – हंसमुख (HASMUKH) – देखने से पहले ये रिव्यू देख लो, फायदे में रहोगे !

Web Series के नाम पर एक काला धब्बा है – हंसमुख (HASMUKH) – देखने से पहले ये रिव्यू देख लो, फायदे में रहोगे !

17 second read
0
0
107

स्टैंडअप कॉमेडियन और एक्टर वीर दास की वेब सीरीज हंसमुख Netflix पे शुक्रवार को रिलीज हुई है। अब कोरोना के इस दौर में जब कोई फिल्म रिलीज ही नहीं हो पा रही तो आने वाली हर नई वेब सीरीज़ एंटरटेनमेंट के भूखों के लिए पिज्जा के ऑफर समान ही लगती है। साथ ही वेब सीरीज से वीरदास औऱ नेटफ्लिक्स का नाम जुड़ा हो तो उम्मीद थोड़ा और बढ़ जाती है। लेकिन बाबू साहब, ये रिव्यू लिखने वाले ने अपने कई कीमती घंटे खर्च कर के ये वेब सीरीज देखी ताकि आपको इसका रिव्यू दिया जा सके।

भगवान कस्सम शुक्रवार की पूरी रात खराब की है इसे देखने के लिए…

तो एक लाइन में सीधे सीधे और साफ तौर पर अगर HANSMUKH का रिव्यू दिया जाए तो ये वेब सीरीज़, फ्रेश कंटेट के नाम पर एक धब्बा है !

मतलब कुछ भी हो रहा है…. कुछ भी चल रहा है….. और कहानी कैसे भी आगे बढ़ाई जा रही है ! शुरूआत के 2 से 3 एपीसोड में तो कसम से लॉजिक की खूब अम्मा की गई है। कहने का मतलब ये है कि भईया अगर कुछ अजीब सी कहानी कहने का शौक है तो भी उसे रियलिज्म के आसपास तो रखोगे न ?

वेब सीरीज का मतलब  बस  ये नहीं होता कि थोड़ी सी नई गालियां ठूंस दी, कुछ अजीब से कैरेक्टर क्रिएट कर दिए और चलो शूटिंग शुरू करते हैं।
कहीं से भी सहारनपुर के नहीं लगते वीरदास !

ONE LINER : एक स्टैंडअप कॉमेडियन जिसे कॉमेडी SHOW करने से पहले एक खून करना पड़ता है !
वैसे वेब सीरीज का वन लाइनर अपने आप में कमाल का है। यूपी के एक छोटे से कस्बे में रहने वाला एक लोकल स्टैंडअप कॉमेडियन है हंसमुख जिसे उसकी जिंदगी का पहला किक तब मिलता है जब वो किसी का खून करने के बाद एक कॉमेडी शो करता है और लोग उसके दीवाने हो जाते हैं।

प्लॉट तो बहुते इंट्रेस्टिंग है लेकिन असली झोल भी यहीं पर है ! जिस शो में लोगों को उसकी कॉमेडी का दीवाना होते हुए दिखाया जाता है, उसमें बोले गए उसके जोक्स किसी भी 2 रूपए में बिकने वाले अखबार से भी ज्यादा सड़े हुए और ठुस्स होते हैं। इतना ही नहीं, इसके बाद जब कहानी और आगे बढ़ती है तो स्क्रीनप्ले में लिखने वाले ने फिल्मी क्लिशे का रायता फैला दिया है।

पहले एसीपोड के एक सीन में मनोज पाह्वा और वीर दास

उपर से जब वीर दास इस सीरीज़ में यूपी वाले लौन्डे की एक्टिंग करने की कोशिश करते हैं तो साफ पता चलता है कि होमवर्क में भारी मात्रा में कमी है। हां, रणवीर शौरी जरूर एक ताजी हवा की तरह राहत देने की कोशिश करते हैं, लेकिन बासी कढ़ी में उबाल आए तो कहां से आए !

10 एपीसोड की ये वेब सीरीज़ पहले एपीसोड से ही इतनी नकली लगने लगती है कि आगे बढ़ने का मन ही नहीं करता। खैर मन को मना के हम आगे बढ़े तो भी भगवान कसम साढ़े चार एपीसोड से ज्यादा देख नहीं पाए।

HASMUKH के एक Scene में रणवीर शौरी और वीर दास

वेब सीरीज में एक्टर्स के नाम पर तो मनोज पाहवा, रवि किशन, वीर दास और रणवीर शौरी जैसे बढ़िया एक्टर्स का ज़खीरा जमाया गया है लेकिन कहानी लिखने के नाम पर कायदे से कचरा फैला दिया गया है। वैसे घटिया कहानी और स्क्रीनप्ले का ठीकरा भी आप वीर दास के सिर पर फोड़ सकते हैं, क्योंकि स्टोरी टाइटल में कहानी में भी वीर दास का ही नाम सबसे उपर लिखा आता है।

खैर.. हमारी तरफ से वेबसीरीज HASMUKH को 5 में से 1 स्टार और आपको ये सख्त वॉर्निंग कि अगर मुफ्त का डाटा ऐसे ही उड़ाना हो तो ही इसे देखिएगा !

Load More Related Articles
Load More By Aditi Sawant
Load More In ट्रेंडिंग

Check Also

जिस APP का पीएम ने इतना गुणगान किया, एक HACKER ने 50 मिनट में उसकी पोल खोल दी

लॉकडाउन का एलान करते वक्त पीएम मोदी बार बार एक APP का नाम लेते थे। इस एप का नाम था – आरोग्…