Home ट्रेंडिंग अब वक्त सरकार की तरफ देखने का नहीं, अपनी सुरक्षा खुद करने का है !

अब वक्त सरकार की तरफ देखने का नहीं, अपनी सुरक्षा खुद करने का है !

16 second read
0
0
78

लॉकडाउन का चौथा चरण बस अपना नाम और इज्जत बचाने के लिए ही लॉकडाउन कहा जा सकता है वर्ना धीरे धीरे पूरा देश ऐसा तो हो ही चुका है जैसे कोई लॉकडाउन ही ना हो।

अब रेल और हवाई सेवाओं की शुरूआत का एलान हो चुका है। रेल टिकटों की तो बुकिंग भी शुरू हो गई है 1 जून से रेल वैसे ही पटरी पर दौड़ने लगेगी जैसे पहले दौड़ा करती थी। हां,शुरूआत में सीमित रेलगाड़ियों के साथ सर्विस शुरू हो रही है लेकिन उम्मीद है कि जल्द ही सबकुछ पहले जैसा हो जाएगा। ठीक वैसे ही जैसे पहले सबकुछ चला करता था। इसके साथ ही 25 मई से हवाई यात्राएं भी शुरू हो रही हैं।

Image source..Kerela kaumudi

ये खबरें अच्छी हैं लेकिन इनके बीच हम कुछ पुराने दावे भूल गए हैं। सरकार की तरफ से हमेशा सोशल डिस्टेंसिंग की बात कही जा रही है। लेकिन सरकार की ये बात कितनी जुबानी जमा खर्च है इसका अंदाजा आपको हवाई जहाज और रेल में बेचे जाने वाले टिकटों के अंदाज को देखकर हो जाएगा।

सरकार साफ कह चुकी है कि रेल में जितने भी बर्थ हैं उतनी टिकटें बेची जाएंगी। यानि ट्रेन अपनी FULL CAPACITY में चलेगी और जाहिर तौर पर ऐसे हालात में रेल की बोगी के भीतर कोई सोशल डिस्टेंसिंग जैसा मसला बचेगा नहीं। हां, वैसे ही हवाई यात्रा में पहले ये कहा जा रहा था कि बीच की सीट की टिकट नहीं बेची जाएगी। लेकिन भाई साब.. अब ऐसा भी नहीं होगा। प्लेन की पूरी टिकट बेची जाएगी। एक एक सीट को बेचकर टिकट का पैसा वसूला जाएगा।

Image Source..Gigabit magazine

अब ऐसे में फ्लाइट के भीतर कितनी सोशल डिस्टेंसिंग बचेगी इसका अंदाजा आप खुद लगा सकते हैं।हालांकि इसके पीछे तर्क ये दिया जा रहा है कि एयरपोर्ट पर SCANNING काफी सख्त होगी और ऐसे में किसी INFECTED इंसान के लिए फ्लाइट में बोर्ड होने की संभावना ही नहीं बनती। वही बात रेल सफर के बारे में भी कही जा रही है कि प्लेटफॉर्म पर स्क्रीनिंग होगी और वहां भी INFECTED लोगों पर सख्त नज़र रखी जाएगी।

हालांकि ये सब तो कागजों पर लिखे हुए सुरक्षा के इंतजाम है। अब सच यही है कि हमें अपनी SECURITY और SAFETY का ध्यान खुद ही ज्यादा से ज्यादा रखना होगा। अपनी सुरक्षा अपने हाथ होगी। आप अपने आप को जितना बचा कर चलेंगे आप उतने ही SECURE रहेंगे। वर्ना अब हालात तो देखिए हमेशा ऐसे ही रहेंगे और इ

Load More Related Articles
Load More By Lavanya Joshi
Load More In ट्रेंडिंग

Check Also

देश में मरते गरीब और पुलवामा ब्लास्ट : देशभक्त सरकार के सामने परेशानियां !

वैसे इस देश केदेशद्रोहियों का वाकईकुछ हो नहीं सकता। वो तो भला हो इस देश की देशभक्त सरकार क…